हिमाचल प्रदेश केन्द्रीय विश्वविद्यालय
रोजगार अवसर नया
central university of himachal pradesh, hpcu, cuhp, dharamshala, dehra, Vice Chancellor Prof. Furqan Qamar
अध्ययन स्कूल
central university of himachal pradesh, hpcu, cuhp, dharamshala, dehra, Vice Chancellor Prof. Furqan Qamar
विश्वविद्यालय के अधिकारीगण
central university of himachal pradesh, hpcu, cuhp, dharamshala, dehra, Vice Chancellor Prof. Furqan Qamar
SWACHH BHARAT ABHIYAN
central university of himachal pradesh, hpcu, cuhp, dharamshala, dehra, Vice Chancellor Prof. Furqan Qamar
मुख्य पृष्ठ > कुलपति
central university of himachal pradesh, hpcu, cuhp, dharamshala, dehra,vice Chancellor Prof. (Dr.) Kuldeep Chand Agnihotri

प्रो. (डॉ.) कुलदीप चंद अग्निहोत्री
माननीय कुलपति
हिमाचल प्रदेश केन्द्रीय विश्वविद्यालय



प्रो. (डॉ.) कुलदीप चंद अग्निहोत्री ने हिमाचल प्रदेश केन्द्रीय विश्वविद्यालय में कुलपति के रूप में 20 अप्रैल, 2015 को पदभार ग्रहण किया । इस विश्वविद्यालय में कार्यभार ग्रहण करने से पूर्व प्रो. अग्निहोत्री पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के उपाध्यक्ष पद को सुशोभित कर रहे थे ।

प्रो. अग्निहोत्री तीन दशकों से भी अधिक समय से शिक्षा जगत से जुड़े रहे हैं । इस अवधि के दौरान हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के अंतर्गत उन्होंने विभिन्न क्षमताओं में सेवाएं प्रदान की हैं, यथा, निदेशक, क्षेत्रीय अध्ययन केन्द्र, एचपीयू, धर्मशाला;प्राचार्य, बाबा बालक नाथ महाविद्यालय, चकमोह (हि.प्र.) और प्रवक्ता (हिंदी), शिवालिक कॉलेज, नया नंगल ( पंजाब ) ।

प्रो. अग्निहोत्री डॉ. भीमराव अंबेडकर पीठ, एचपीयू के अध्य्क्षपद पर भी रह चुके हैं । वे एक संस्था निर्माता हैं और उन्होंने मैहरे, बड़सर, हमीरपुर (हि.प्र.) में दीनदयाल उपाध्याय महाविद्यालय की स्थापना की ।व ेनियमित स्तंभ लेखक हैं और अनेक क्षेत्रीय और राष्ट्रीय समाचार-पत्रों में प्राय: लिखते रहे हैं ।

उन्होंने पन्द्रह से भी अधिक पुस्तकें लिखी हैं, जिनमें “एक और जलियांवाला” और “ईरानी क्रांति और उसके बाद” जैसी पुस्तकें काफी चर्चित रही हैं । उनकी कहानी संग्रह “घेरे के बंदी” को पंजाब हिंदी परिषद द्वारा पुरस्कृत किया गया है ।

चकमोह, जिला हमीरपुर, हिमाचल प्रदेश के निवासी, में जन्मे प्रो. अग्निहोत्री हिंदी और राजनी‍ति विज्ञान में स्नातकोत्तर हैं । वे पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ से “आदिग्रंथ आचार्य”की उपाधि एवं “पीएचडी”से सम्मा‍नित हैं ।